शुक्रवार, 8 अगस्त 2008

दोस्ती और शादी



यदि किसी से अच्छी दोस्ती हो
और तोड़ने का मन हो
तो उससे प्यार कर लो
दो कदम और आगे जाना हो
यदि उसे दोस्त से दुश्मन बनाना हो
तो उसी से शादी भी कर लो!



यहाँ भी देखें!

6 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

ठीक कह रहे हो, लेकिन यह दोनो तो भगवान की दया से बहुत खुश हे, ओर रहे भी यही दुया हे मेरी भगवान से, धन्यवाद

ajay kumar jha ने कहा…

haay hamein bhee dushmanee manjoor hai aur ham to poore mohalle se karne ko taiyaar hain magar ghar ke shatru se pehle paar paayein tab na

Udan Tashtari ने कहा…

हा हा!! बहुत मजेदार!!

Arvind Mishra ने कहा…

जी उदास न करें दुनिया इतनी बुरी भी नही है

शोभा ने कहा…

बात में दम तो है। सस्नेह

महामंत्री-तस्लीम ने कहा…

इस सदी के महानतम विचार।