शनिवार, 12 जनवरी 2013

"लड़की कैसी लगी"

यह बात पिछले साल की है, जब मेरे एक परिचित दोस्त की "ब्याह की उमर" हो चली थी, और उसके माता-पिता उसकी शादी के बारे में अत्यंत चिंतित थे. उसके माता-पिता ने कई स्रोतों के सहारे लड़कियाँ ढूंढनी शुरू कीं, और आखिरकार उनमें से एक लड़की का "प्रोफाइल" उन्हें पसंद आया. मेरे दोस्त के परिवार में एक परंपरा है कि लड़की देखने लड़का खुद नहीं जाता, उसके परिवार वाले ही जाते हैं. लड़के का खुद जाकर लड़की से मिलना अनुचित समझा जाता है.

तो खैर, लड़के को घर छोड, उसके घरवाले लड़की देखने गये, और देखकर वापस आ गये. मेरा दोस्त अपने घर पर सोफे पर बैठकर घडी देखते हुए उनका "टिक-टिक" इंतजार कर रहा था.

मेरे दोस्त ने अपनी माँ से पूछा "लड़की देख ली?"

माँ: "हाँ, देख ली"

दोस्त: "कैसी लगी?"

माँ: "ठीक लगी"

दोस्त: "ठीक से क्या मतलब? कुछ विस्तार से बतलाओ"

माँ: "लड़की के पापा क्लास वन अफसर हैं, लड़की की माँ हाउसवाइफ हैं, लड़की का भाई इंजीनियर है और बिजली कंपनी में काम करता है, लड़की की बहन बी ए कर रही है, लड़की के मामा टेलीफोन कंपनी में काम करते हैं, लड़की के चाचा हमारे जानकार हैं और हमारे पास-पडोस में ही कहीं रहते हैं"

दोस्त: "लड़की क्या करती है?"

माँ: "वो तो हमने पूछा नहीं"

दोस्त: "लड़की कहीं सिगरेट-शराब तो नहीं पीती?"

माँ: "कैसी बातें कर रहा है तू, लड़कियाँ भी कहीं ऐसे काम करती हैं?"

दोस्त: "मैं जब कालेज में था, कई लड़कियाँ थीं जो ऐसे काम करतीं थीं. इसलिये जानना चाहता था कहीं वो भी ... चलो छोडो. शादी के बाद लड़की नौकरी करना चाहती है या हाउसवाइफ बनना चाहती है?"

माँ: "तू इतने सवाल क्यों पूछ रहा है? जो हम करवाएंगे, वो ही करेगी"

लड़के की माँ ने लड़की के अलावा बाकी सब कुछ देख लिया - उसका घर, उसका परिवार, उसके मामा, चाचा इत्यादि. बस लड़की को ही देखना भूल गयी.

फिर माँ पूछती है "क्या सोच रहा है? कर दें तेरी शादी?"

दोस्त "कम से कम लड़की का नाम तो बता दे माँ, बाकी मैं खुद ही देख लूँगा"

माँ: "नाम बताया तो था उन्होंने, लेकिन मैं भूल गयी. शाम को फोन करके दोबारा पूछ लूँगी".

तो ये है हमारा शादी का सिस्टम.

अरे हाँ, लड़की कैसी लगी? जरा कमेंट करके बतलाइये!

7 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

पहले लोग लड़कियां देखने जाते हैं.
कुछ साल बाद लड़कियों वाले देखने आते हैं
फिर कुछ आैर साल गुजर जाने के बाद...
सवाल होता है कि अरे लड़कियों वाले अभी भी देखते आते हैं ?

Ravishankar Shrivastava ने कहा…

लड़की तो एकदम फिट है - आखिर भरे पूरे, खाते-पीते परिवार की है.

पर अब इधर मामला थोड़ा उलटा हो चला है - पिछले वर्ष हमें शादी-विवाह के कोई पच्चीसेक निमंत्रण पत्र प्राप्त हुए थे, जिनमें अस्सी प्रतिशत से अधिक में अंतर्जातीय विवाह हो रहे थे.

shruti ने कहा…

The son seem to be as regressive as the parents. I can still imagine parents still in the same thought process as twenty year old. the parents don't give a damn about what the girl is like, they eventually with mould the girl,that's a little too much. And somebody tell the young guy that drinking and smoking doesn't make a girl "Bad". Its just a choice she is making like men. (its altogether a different issue if she is trying to make a point, or show liberation, or making a desperate attempt to get noticed etc when she smokes or drink). nevertheless i can excuse the parents but not the guy. He should take a stand on what he wants, otherwise his future generations will be like him and his parents.

shruti ने कहा…

hopefully the next answer will be in hindi, i just have to figure out how to type in hindi.

Abhimanyu Bhardwaj ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर लेख
हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
MY BIG GUIDE

Kumar Swasti Priye ने कहा…

लड़की के बारे में तो नहीं मगर ऐसे लगता है कि लड़का मेरे जान-पहचान का ही है...शायद मेरा मित्र है....:)

Mr Vadhiya ने कहा…

Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Bank Jobs.