शनिवार, 4 अप्रैल 2009

प्रसाद के लड्डू

एक बार मेरी माताश्री मंदिर से प्रसाद लेकर आयीं। प्रसाद के वे लड्डू देकर उन्होंने मुझसे कहा "बेटा मोहल्ले में प्रसाद बाँट दे।" मैं आस-पड़ोस के घरों में प्रसाद बाँटने चल निकला।

पड़ोस ही में एक युवा छात्र अकेला रहता था, उसके कमरे पर भी मैं गया। हाथ में एक लड्डू उसकी ओर करते हुये मैं बोला "ये लड्डू ले लो।"

उसने कहा "धन्यवाद, लेकिन लड्डू मुझे पसंद नहीं हैं।"

मैं बोला "भैया ये प्रसाद के लड्डू हैं"

उसने चेहरे के भाव तुरंत बदले, और उसने कहा "ओह, प्रसाद है? तब खा लूंगा।"

उसकी हथेलियाँ अंजलि बनाकर मुझसे लड्डू गृहण कर चुकीं थीं। जो लड्डू उसे १ मिनट पहले तक पसंद नहीं थे, अब वह उन्हीं लड्डुओं को हाथ जोड़कर पूरी श्रद्धा से खा रहा था।

यदि हम सब कुछ भगवान का प्रसाद मानकर गृहण करें, तो दुख को भी सुख में बदलते देर नहीं लगेगी। इसी का नाम है प्रसादबुद्धि!

11 टिप्‍पणियां:

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

दृष्टि बदल जाय तो सृष्टि ही बदल जाती है, यह तो लड्डू मात्र था ।

mehek ने कहा…

bahut saralta se gahan baat krh di,sach bhi hai.sab kuch ishwar ja prasad hi hai duniya mein.bahut achhi post.

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

गहन भाव.

Neetesh ने कहा…

बोहत ही अच्छी पोस्ट..........

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

हमें तो जो जो भी मिलता है सब प्रसाद ही है।

AAKASH RAJ ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा आपने एक ही वस्तु पे अलग - अलग दृष्टी काफी अलग भावना ब्यक्त करती है .........

संगीता पुरी ने कहा…

कहानी के माध्‍यम से अच्‍छी सीख।

जी.के. अवधिया ने कहा…

बहुत अच्छा उपदेश!

creativekona ने कहा…

वाह अनिल जी ,
अच्छा लिखा आपने प्रसाद के नाम पर तो कुछ भी खाया जा सकता है .....
पसंद हो या न हो ....
हेमंत कुमार

Dr. Munish Raizada ने कहा…

शादी के लडू कब खाने को मिल रहें हैं आप कि और से ?

Anil ने कहा…

शादी के लड्डू भी मिल जायेंगे! बस समय की देर है! तारीफ के लिये सबका शुक्रिया! आशा है आपके जीवन में खुशियों का प्रसाद आये!